बॉलीवुड में आने से पहले चाय , पटाखे और लॉटरी की टिकट बेचा करते थे अन्नू कपूर

संघर्ष से भरा था अन्नू कपूर का जीवन ..

By   |     |   1,071 reads   |   0 comments
संघर्ष से भरा था अन्नू कपूर का जीवन ..

संघर्ष से भरा था अन्नू कपूर का जीवन ..

अन्नू कपूर बॉलीवुड के ऐसे एक्टर है जिनके किरदार फिल्मों में जान फूंक देते हैं| चाहें वो ‘बेताब’ का चेलाराम हो या फिर ‘चमेली की शादी’ का छदम्मी लाल| न सिर्फ वो पिछली पीढ़ी बल्कि नयी पीढ़ी के लिए भी रिलेटेबल हैं| ‘ऐतराज’ में उन्होंने बैरिस्टर राम चोटरानी और ‘विक्की डोनर’ में डॉक्टर बलदेव चड्ढा का किरदार बखूबी निभाया था| अन्नू कपूर न सिर्फ एक्टिंग बल्कि सिंगिंग और एक शानदार होस्ट के तौर पर भी जाने जाते हैं| अन्नू कपूर का जन्म 20 फरवरी, 1956 को हुआ था| इस इंडस्ट्री में लोगों ने उन्हें सिंगिंग रियलिटी शो अंताक्षरी से की|

हालाँकि बॉलीवुड में आने से पहले उनकी लाइफ इतनी भी आसान नहीं थी| उन्होंने बॉलीवुड में आने से पहले बहुत ही संघर्ष किया| आइये जानते हैं उनके ऐसे ही संघर्ष की कुछ कहानी-

चाय की दुकान पर किया काम

अन्नू कपूर बचपन मेंसर्जन या आईएएस अफसर बनना चाहते थे लेकिन घर की आर्थिक हालत को देखते हुए उन्हें अपनी पढाई छोडनी पड़ी| साथ ही साथ खर्चा चलाने के लिए उन्होंने चाय की दुकान पर काम किया| यही नहीं बल्कि कभी कभी वो पटाखे बेचते थे तो कभी लॉटरी का टिकट| कुछ ऐसे हालातों में बिता था उनका बचपन|

5-5 रुपये के लिए करते थे ये काम

अन्नू कपूर ने एक इंटरव्यू में बताया था कि एक बार वो लखनऊ चले गए थे| वहां पर होटल की छत पर वो सोया करते थे| बाद में उन्होंने अपने पिता के थियेटर में एक्टिंग करना शुरू किया जहाँ पर उन्हें मिमिक्री करने के 5-5 रुपये मिलते थे|

असली नाम है ये

आपको शायद पता न हो लेकिन अन्नू कपूर का नाम अनिल कपूर है, लेकिन उन्होंने अपना नाम बदल कर अन्नू कर लिया ताकि बॉलीवुड एक्टर अन‍िल कपूर के साथ कोई कंफ्यूजन न हो|

टैलेंट को मिली पहचान


अन्नू कपूर को म्यूजिक रियलिटी शो अंताक्षरी से खासी पहचान मिली| इसके बाद उन्होंने फिल्मों में अपना कदम रक्खा|

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.