बाबूमोशाय बन्दूकबाज़: नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी की फिल्म का हो गया उड़ता पंजाब, CBFC ने की 48 कट्स की मांग की

सीबीएफसी ने नवाजुद्दीन सिद्दीकी की आगामी फिल्म बाबूमोशाय बन्दूकबाज़ में 48 कट्स की मांग की है।

By   |     |   2,548 reads   |   0 comments
नवाज़ की फिल्म का हुआ ये हाल...निर्माता हो गए हैं बेहाल

नवाज़ की फिल्म का हुआ ये हाल...निर्माता हो गए हैं बेहाल

सेंट्रल बोर्ड ऑफ फिल्म सर्टिफिकेशन (सीबीएफसी) ने नवाजुद्दीन सिद्दीकी की आगामी फिल्म बाबूमोशाय बन्दूकबाज़ में 48 कटौती की मांग की है। फिल्म के निर्माता किरण श्रॉफ ने सीबीएफसी के फैसले को चुनौती दी और कहा कि जब फिल्म को ‘ए’ प्रमाण पत्र दिया गया है, तो कटौती की क्या जरूरत है?

“वे (सीबीएफसी सदस्यों) के पास एक घंटे की चर्चा हुई थी, हम बहुत बेचैन थे, हम उन आपत्तियों के बाढ़ की उम्मीद करते थे जिन्हें हमें उठाना पड़ेगा| हम ‘ए’ प्रमाण पत्र के साथ ठीक थे, लेकिन उन्होंने 48 कट्स की मांग की| हमने पूछा, ‘क्यों इतने सारे कटौती जब हमें वैसे भी ‘ए’ (प्रमाण पत्र) मिल रहा है| उन्होंने कहा कि बच्चे भी ये फिल्म देखेंगे| इस तर्क का कोई मतलब नहीं है। यह एक मूर्ख तर्क है, “किरण श्रॉफ ने एक प्रमुख समाचार एजेंसी को बताया।

फिल्म में इतने कट्स है की जिसकी उम्मीद नहीं की गयी होगी| ‘इंटेंस सीन को लगभग 80% तक कम करने को कहा गया है वहीँ , ‘चु ***** या, ब ****** द और माँ ***** जैसे अब्युसिव शब्दों को हटा दिया है| अब इतने कट्स को देखते हुए तो यही कहा जा सकता है की सीबीएफसी प्रमुख पहलाज निहलानी उड़ता पंजाब जैसी घटना दोहरा रहे हैं|

एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में, सिद्दीकी ने कहा कि मोटे भाषा का प्रयोग सिर्फ इसलिए होता है क्योंकि फिल्म की कहानी उस जगह या फिर वातावरण पर बसी होती है| “एक अभिनेता के रूप में, अगर किसी को एक विशेष फिल्म में बताए संवादों के बारे में समझा जाए तो ये एक डरावनी स्थिति होती है| “उन्होंने कहा। उन्होंने रेखांकित किया कि चरित्र उस स्थान की भाषा में बात करेगा जिसपर फिल्म सेट है।

कटौती की अपील करने के लिए निर्माता ने फिल्म प्रमाणन अपीलीय ट्रिब्यूनल को स्थानांतरित कर दिया है। सीबीएफसी द्वारा फिल्म में किये गए कट्स पर एक नज़र डालें:

 

 

 

 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.